नागपूर विभागीय प्रतिनिधी-ऋग्वेद येवले

 

गोंदिया। पिछली सरकार के कार्यकाल में कृषि विभाग द्वारा धान खरीदी लक्ष्य की केंद्र को गलत रिपोर्ट प्रस्तुत करने पर इसका खामियाजा विदर्भ के किसानों को भुगतना पडा। रबी सीजन-2021-22 में बंपर धान की पैदावार होते हुए भी किसानों से मात्र 30 प्रतिशत धान की खरीदी सरकारी समर्थन मूल्य पर हुई, जबकि 70 प्रतिशत धान घरों में रखा बर्बाद हो रहा था।

 

किसानों के इस गंभीर ज्वलंत मुद्दे को लेकर भाजपा के सांसदों, विधायकों ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर, राज्य के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से भेंट कर उन्हें किसानों को राहत देने की अपील की थीं। केंद्रीय मंत्री एवं राज्य के उप मुख्यमंत्री द्वारा आश्वस्त किये जाने पर राज्य में नई भाजपा-सेना सरकार के गठन होते ही किसानों के इस गंभीर मुद्दे पर सकारात्मक कदम उठाकर इसका समाधान किया गया।

 

केंद्र सरकार ने रबी सीजन 2021-2022 की धान खरीदी हेतु लक्ष्य को बढ़ाकर अब 27 लाख क्विंटल से 43 लाख क्विंटल कर दी है। इसका पत्र भी केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा राज्य सरकार को जारी कर दिया गया। शासकीय धान खरीदी केंद्रों पर अब किसान अपना शेष धान 31 जुलाई तक बिक्री कर सकते है।

 

गोंदिया विधानसभा क्षेत्र के विधायक विनोद अग्रवाल ने, केंद्र सरकार द्वारा किसानों के हित मे कदम उठाने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि, ये महाराष्ट्र में भाजपा-सेना की नई सरकार के आते ही बड़ा कदम है। इस आदेश के जारी होने से आज हजारों किसानों के चेहरों पर खुशी है। इस खुशी को बरकरार रखने हम सदैव अन्नदाताओं के साथ उनके सुख-दुख में शामिल रहेंगे।

0Shares

By Dakhal News Bharat

भारत सरकारने फेब्रुवारी 2021 पासून अधिसूचित केलेल्या नव्या माहिती तंत्रज्ञान (IntermediaryGuidelines and Digital Media Ethics Code- Rules 2021) मध्यस्थ मार्गदर्शक सूचना आणि डिजिटल माध्यमांसाठीची आचार संहिता) नियम 2021 अंतर्गत सदर न्यूजपोर्टल Digital Media Publishers & News Portal Grievance Council of India” स्वनियमन संस्थेकडे (Rule १८नुसार) Reg. No- DMPNPGCI007 नोंदणीकृत आहे. डिजिटल माध्यमांसाठीच्या आचारसंहितेनुसार आम्ही पालन करतो. तरीही एखाद्या बातमीविषयी आपली तक्रार असल्यास भारत सरकारच्या कायद्यानुसार स्वनियमन संस्थेकडे विहित नमुन्यात अर्ज करू शकता. newsportalpublishergrievances@gmail.com